The Kerala Story CM Pinarayi Vijayan Reaction Says Product Of Sangh Parivar Propaganda


Pinarayi Vijayan On The Kerala Story: बॉलीवुड फिल्म ‘द केरल स्टोरी’ विवादों में घिरने लगी है. इस फिल्म का ट्रेलर यूट्यूब पर कुछ दिन पहले ही सोशल मीडिया पर आया लेकिन इसके बाद से ही इस पर सवालिया निशान उठाए जा रहे हैं. ताजा घटनाक्रम में केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने इसको लेकर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए संघ परिवार का एजेंडा बता दिया.  
समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने ‘द केरल स्टोरी’ फिल्म के प्रोड्यूसर्स पर निशाना साधते हुए रविवार (30 अप्रैल) को कहा कि वे इस फिल्म के जरिए ‘लव जिहाद’ का मुद्दा उठाकर राज्य को धार्मिक अतिवाद के केंद्र के रूप में पेश करने संबंधी संघ परिवार के एजेंडे का प्रचार कर रहे हैं. विजयन ने कहा कि ‘लव जिहाद’ जैसे विषय को अदालतें, जांच एजेंसियां और यहां तक कि केंद्रीय गृह मंत्रालय भी खारिज कर चुका है.
‘जानबूझकर बनाई गई फिल्म’
उन्होंने कहा कि हिंदी फिल्म का ट्रेलर पहली नजर में ऐसा प्रतीत होता है कि मानो इसे सांप्रदायिक ध्रुवीकरण पैदा करने और राज्य के खिलाफ नफरत फैलाने के कथित उद्देश्य से ‘जानबूझकर निर्मित’ किया गया है.
मुख्यमंत्री ने कहा कि दुनिया के सामने केरल को अपमानित करने के लिए फिल्म के जरिए प्रमुख रूप से इस मुद्दे को उठाया जा रहा है. विजयन ने एक बयान में कहा कि इस तरह की प्रचार फिल्मों और उनमें दिखाए गए मुसलमानों के अलगाव को केरल में राजनीतिक लाभ हासिल करने के संघ परिवार के प्रयासों के संदर्भ में देखा जाना चाहिए.
उन्होंने संघ परिवार पर ‘सांप्रदायिकता का जहरीला बीज बो कर’ राज्य में धार्मिक सद्भाव को नष्ट करने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया. विजयन ने आरोप लगाया कि चूंकि संघ परिवार की बंटवारे की राजनीति केरल में काम नहीं कर रही थी, जैसा कि उसने अन्य जगहों पर किया, वह इसे ‘फर्जी कहानियों’ पर आधारित एक फिल्म के जरिए फैलाने की कोशिश कर रहा है. यह फिल्म किसी भी तथ्य या साक्ष्यों पर आधारित नहीं है.
विजयन ने कहा, ‘‘फिल्म के ट्रेलर में हमने देखा कि केरल में 32,000 महिलाओं का धर्मांतरण किया गया और उन्हें इस्लामिक स्टेट का सदस्य बनाया गया. यह फर्जी कहानी संघ परिवार की झूठ की फैक्ट्री का उत्पाद है.’’
विजयन ने दी कानून कार्रवाई की चेतावनी
उन्होंने कहा, ‘‘यह झूठ और सांप्रदायिकता फैलाने और राज्य में लोगों को बांटने का लाइसेंस नहीं है.’’ विजयन ने मलयाली लोगों से ऐसी फिल्मों को अस्वीकार करने और झूठे प्रचार के माध्यम से समाज में सांप्रदायिक अशांति फैलाने के प्रयासों के खिलाफ सतर्क रहने का आग्रह किया. उन्होंने असामाजिक गतिविधियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की चेतावनी भी दी.
कुछ दिन पहले, राज्य में सत्तारूढ़ मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) और विपक्षी दल कांग्रेस ने विवादास्पद फिल्म ‘द केरल स्टोरी’ पर निशाना साधते हुए कहा था कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार समाज में जहर उगलने का लाइसेंस नहीं है और यह फिल्म राज्य के सांप्रदायिक सद्भाव को नष्ट करने का एक प्रयास है.
कांग्रेस ने सरकार से विवादास्पद फिल्म के प्रदर्शन की अनुमति नहीं देने का आग्रह किया क्योंकि इसका उद्देश्य ‘झूठे दावों के माध्यम से समाज में सांप्रदायिक विभाजन’ पैदा करना है.
5 मई को सिनेमाघरों में आएगी फिल्म
‘द केरल स्टोरी’ का निर्देशन सुदीप्तो सेन ने किया है. जबकि इसकी पटकथा भी सुदीप्तो ने ही लिखी है. यह फिल्म पांच मई को सिनेमाघरों में रिलीज होगी. फिल्म में दर्शाया गया है कि किस तरह से केरल की लगभग 32 हजार महिलाओं का कथित रूप से धर्मांतरण किया गया, उन्हें कट्टरपंथी बनाया गया और फिर उन्हें भारत और दुनिया में आतंकवादी मिशनों को अंजाम देने के लिए तैनात किया गया.
ये भी पढ़ें: The Kerala Story: खुद प्रोड्यूसर Vipul Amrutlal Shah ने बताई 32 हजार लड़कियों के लव जिहाद की सच्चाई, सुनकर उड़ जाएंगे होश!



Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles