Rahul Gandhi Convoy Stopped In Manipur Bjp Hits Back Congress For Allegations


Rahul Gandhi Convoy Stopped In Manipur: कांग्रेस नेता राहुल गांधी गुरुवार (29 जून) को हिंसाग्रस्त मणिपुर का दौरा करने पहुंचे थे. इंफाल पहुंचने के बाद वह राहत शिविरों का दौरा करने के लिए चुराचांदपुर की तरफ जा रहे थे. इतने में पुलिस ने उनके काफिले को रोक दिया और उन्हें आगे नहीं जाने दिया गया. कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी सरकार ने पुलिस लगाकर राहुल को रास्ते में रोक दिया. हालांकि, बीजेपी ने भी इन आरोपों का पलटवार किया है. 
बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा (Sambit Patra) ने गुरुवार (29 जून) को कहा, “जब राहुल गांधी इंफाल में उतरे और उसके पहले भी उनको और उनके दफ्तर से अपील भी की गई कि आप यहां की स्थिति की संवेदनशीलता को देखते हुए हेलीकॉप्टर से आगे जाएं लेकिन वह नहीं माने. कई संगठनों ने भी उनके दौरे के खिलाफ आवाज बुलंद की.” 
‘गो बैक’ के नारे लगाए गए
संबित पात्रा ने कहा, “इन सबके बावजूद राहुल गांधी नहीं माने और वे जिद करके आगे बढ़ गए. इसी को लेकर राहुल का विरोध हो गया. लोगों ने उनके खिलाफ ‘गो बैक’ के नारे भी लगाए. जिस जिद के साथ वह आए वो ठीक नहीं है. संवेदनशील जगहों पर जागरूकता के साथ जाना चाहिए.” पात्रा ने मणिपुर हिंसा को लेकर कहा कि यहां के लोग नहीं चाहते की कांग्रेस का कोई भी नेता यहां आए क्योंकि कहीं न कहीं ये विरासत का मुद्दा है.
स्टूडेंट यूनियन ने भी किया था विरोध- संबित पात्रा पात्रा ने कहा, “जब से मणिपुर के लोकल न्यूज चैनल में उनके (राहुल) दौरे की खबर चल रही है तब से इसका विरोध हो रहा है. मणिपुर में स्टूडेंट यूनियन ने भी इसका विरोध किया था. उन्होंने अपील की थी कि राहुल इस परिस्थिति में न आएं. इसके साथ ही सिविल सोसाइटी ऑर्गेनाइजेशन भी इसके खिलाफ थी. उन्होंने कहा था राहुल यहां न आएं और चिंगारी भड़काने की कोशिश न करें.”
संबित पात्रा के बयान पर पलटवार
कांग्रेस नेता सुप्रिया श्रीनेत ने संबित पात्रा के बयानों का पलटवार किया है. उन्होंने कहा, ” शर्म आनी चाहिए उन लोगों को जो ऐसा बयान दे रहे हैं. राहुल गांधी वहां लोगों को ढांढस बनाने जा रहे हैं. संबित पात्रा से हमें नसीहत नहीं चाहिए. वो इंचार्ज हैं मणिपुर के. उनकी और उनकी पार्टी की क्या जवाबदेही है. जिस भी मध्यम से जाएं राहुल गांधी जायेंगे जरूर. जब मणिपुर जल रहा है तब बीजेपी इसे विरासत का मुद्दा बता रही है”
कांग्रेस ने क्या लगाया आरोप?
कांग्रेस ने अपने आधिकारिक हैंडल से ट्वीट किया, “राहुल गांधी मणिपुर हिंसा के पीड़ितों से मिलने जा रहे थे. बीजेपी सरकार ने पुलिस लगाकर उन्हें रास्ते में रोक दिया. राहुल शांति का संदेश लेकर मणिपुर गए हैं. सत्ता में बैठे लोगों को शांति, प्रेम, भाईचारे से सख्त नफरत है. लेकिन उन्हें याद रखना चाहिए कि ये देश गांधी के रास्ते पर चलेगा, ये देश प्यार के रास्ते पर चलेगा.”

राहुल गांधी जी मणिपुर हिंसा के पीड़ितों से मिलने जा रहे थे।BJP सरकार ने पुलिस लगाकर उन्हें रास्ते में रोक दिया।राहुल जी शांति का संदेश लेकर मणिपुर गए हैं। सत्ता में बैठे लोगों को शांति, प्रेम, भाईचारे से सख्त नफरत है।लेकिन उन्हें याद रखना चाहिए… ये देश गांधी के रास्ते पर… pic.twitter.com/KEdwCoDxvg
— Congress (@INCIndia) June 29, 2023

जयराम रमेश ने भी लगाए आरोप 
कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने भी ट्वीट कर लिखा, “ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि मोदी सरकार राहुल गांधी को राहत शिविरों का दौरा करने और इंफाल के बाहर लोगों से बातचीत करने से रोक रही है. उनकी दो दिवसीय मणिपुर यात्रा भारत जोड़ो यात्रा की भावना के अनुरूप है. प्रधानमंत्री चुप रहना या निष्क्रिय रहना चुन सकते हैं, लेकिन मणिपुरी समाज के सभी वर्गों को सुनने और उन्हें राहत देने के राहुल गांधी के प्रयासों को क्यों रोका जाए?”
ये भी पढ़ें: Rahul Gandhi Convoy: ‘दुर्भाग्यपूर्ण’, मणिपुर पुलिस ने रोका राहुल गांधी का काफिला तो कांग्रेस बोली- पीएम चुप रहना चाहते हैं तो रहें, लेकिन…





Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles