Poonch Terror Attack Terrorists Used Steel Core Bullets Absconded With Weapons Of Jawans


Poonch Terrorist Attack: जम्मू-कश्मीर के पुंछ में सेना के एक ट्रक पर घात लगाकर हमला करने वाले आतंकवादियों ने बख्तरबंद ढाल को भेदने में सक्षम स्टील कोर गोलियों का इस्तेमाल किया था. आतंकियों का पता लगाने के लिए जारी अभियान के बीच अधिकारियों ने यह जानकारी दी कि आतंकी सैनिकों के हथियार लेकर फरार हो गए. 
अधिकारियों ने कहा कि माना जा रहा है कि एक हमलावर ने ट्रक को आगे से निशाना बनाया, जबकि दूसरी ओर से अन्य आतंकियों ने गोलियां चलाई और ग्रेनेड फेंके. भाटा धुरियान के घने वन क्षेत्र में गुरुवार (20 अप्रैल) दोपहर इफ्तार के लिए खाने का सामान लेकर जा रहे सेना के ट्रक पर आतंकवादियों ने हमला कर दिया था. हमले में पांच जवान शहीद हो गए और एक घायल हो गया. ये जवान आतंकवाद रोधी अभियानों के लिए तैनात राष्ट्रीय राइफल्स की एक यूनिट में तैनात थे.
एजेंसियों ने घटनास्थल का दौरा किया 
अधिकारियों ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) और NIA सहित विभिन्न एजेंसियों के विशेषज्ञों ने पिछले दो दिनों में घटनास्थल का दौरा किया है और घातक हमले की सटीक जानकारी पाने की कोशिश की है.
विपरीत दिशा से गोलियां बरसाईं
उन्होंने कहा कि माना जाता है कि एक हमलावर ने सामने से वाहन को निशाना बनाया, जबकि उसके साथियों ने वाहन पर विपरीत दिशा से गोलियां बरसाईं और ग्रेनेड फेंके, इससे सैनिकों को जवाबी कार्रवाई करने का समय नहीं मिला.
उन्होंने कहा कि आतंकवादियों ने स्टील कोर गोलियों का इस्तेमाल किया जो किसी बख्तरबंद ढाल को भेद सकती हैं. अधिकारियों ने कहा कि भागने से पहले आतंकवादियों ने सैनिकों के हथियार और गोला-बारूद चुरा लिए.
भाटा धुरियान वन क्षेत्र घुसपैठ का रास्ता बना
जिस क्षेत्र में हमला हुआ, उसे लंबे समय से आतंकवाद मुक्त माना जाता रहा है, लेकिन भाटा धुरियान वन क्षेत्र आतंकवादियों के लिए घुसपैठ का रास्ता बना हुआ है. यहां से आतंकी भौगोलिक स्थिति, घने जंगल का फायदा उठाते हुए नियंत्रण रेखा (LOC) को पार करके भारत में घुसने का प्रयास करते हैं.
2021 में नौ सैनिक मारे गए थे
अक्टूबर 2021 में, एक तलाशी अभियान के दौरान भाटा धूरियान वन क्षेत्र में चार दिन के भीतर आतंकवादियों के साथ हुई दो बड़ी मुठभेड़ों में नौ सैनिक मारे गए थे. यह तलाश अभियान तीन सप्ताह से अधिक समय तक जारी रहा था, जिसमें आतंकवादियों का कोई पता नहीं चला था.
दो दशक पहले ही याद आई घटना
20 अप्रैल का हमला दो दशक पहले एक न्यायिक मजिस्ट्रेट के आधिकारिक वाहन पर हुए आतंकवादी हमले की याद दिलाता है. भाटा धुरियान के पास देहरा की गली के जंगल में पांच दिसंबर, 2001 को हुए हमले में जिला एवं सत्र जज वी के फूल, एक आम नागरिक और दो पुलिस कर्मियों की मौत हो गई थी. अधिकारियों ने कहा कि पुंछ हमले के संबंध में पूछताछ के लिए 12 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है, लेकिन अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.
ड्रोन और कुत्तों की मदद
उन्होंने कहा कि सुरक्षा बल घने जंगल में आतंकियों की तलाश के लिए ड्रोन और श्वान दस्तों की मदद ले रहे हैं, लेकिन अभी तक सफलता हाथ नहीं लगी है. अधिकारियों ने कहा कि ऐसा माना जाता है कि आतंकवादी घने जंगल में सुरक्षित ठिकाने बनाने में कामयाब रहे हैं या पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में घुस गए होंगे.
आतंकियों को इलाके की पर्याप्त जानकारी
अधिकारियों के अनुसार, शुरूआती रिपोर्ट में संकेत मिला है कि हमले में भाड़े के विदेशी लड़ाकों सहित करीब पांच आतंकवादी शामिल थे. घात लगाकर हमला करने के बाद, आतंकवादियों ने संभवतः ग्रेनेड के साथ-साथ ‘स्टिकी बम’ का इस्तेमाल किया जिससे वाहन में आग लग गई. अधिकारियों ने कहा कि हमले को अंजाम देने वालों के बारे में माना जाता है कि वे एक साल से अधिक समय से राजौरी और पुंछ में थे और उन्हें इलाके की पर्याप्त जानकारी थी.
उन्होंने बताया कि यह इलाका जम्मू कश्मीर गजनवी फोर्स (जेकेजीएफ) का गढ़ है क्योंकि इसका कमांडर रफीक अहमद उर्फ रफीक नई इसी इलाके का रहने वाला है. सूत्रों ने कहा कि वर्तमान में तीन से चार आतंकवादी समूह राजौरी और पुंछ क्षेत्र में सक्रिय हैं.
ये भी पढ़ें: Amritpal Singh: क्या खुद को ‘भिंडरावाले 2.0’ बनाने की कोशिश में था अमृतपाल?



Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles