PM Modi Chennai And Hyderabad Visit 10 Big Things About PM Modi Tour All You Need To Know


PM Modi Chennai and Hyderabad Visit: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने बृहस्पतिवार को तमिलनाडु (Tamil Nadu) की पूरी हो चुकी कई परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित किया और कई नई योजनाओं की आधारशिला रखी. प्रधानमंत्री तमिलनाडु (PM Modi Tamil Nadu Visit) के दौरे पर आज चेन्नई पहुंचे थे. इससे पहले वो हैदराबाद के दौरे पर थे. मुख्यमंत्री एम के स्टालिन (MK Stalin) ने पीएम मोदी (PM Modi) से राज्य के लिए निधि में वृद्धि की मांग की और बताया कि तमिलनाडु का विकास अद्वितीय है, क्योंकि यह न केवल आर्थिक मानकों पर बल्कि समावेशी विकास के ‘द्रविड़ मॉडल’ पर आधारित है.

प्रधानमंत्री (PM Modi) ने राज्यपाल आर एन रवि, केंद्रीय मंत्री एल मुरुगन और मुख्यमंत्री एम के स्टालिन की उपस्थिति में 2,960 करोड़ रुपये से अधिक की पांच परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित किया. इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी के तहत 116 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित लाइट हाउस प्रोजेक्ट-चेन्नई के हिस्से के रूप में निर्मित 1,152 घरों का भी उद्घाटन किया गया.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु की सराहना एक विशेष स्थान के रूप में की और तमिल भाषा को शाश्वत तथा तमिल संस्कृति को वैश्विक बताया. पूरी हुईं नई परियोजनाओं का उद्घाटन करने और सड़क, रेलवे तथा आवास क्षेत्रों में नई परियोजनाओं की आधारशिला रखने के बाद पीएम मोदी ने तमिल की प्रशंसा में राष्ट्रवादी कवि सुब्रमण्य भारती की एक लोकप्रिय कविता का जिक्र किया और कहा कि हर क्षेत्र में तमिलनाडु के किसी व्यक्ति ने अग्रणी भूमिका निभाने का कार्य किया.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हाल में उन्होंने अपने आवास पर भारतीय ‘डीफलिंपिक दल’ की मेजबानी की थी. उन्होंने कहा कि इस बार टूर्नामेंट में यह भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था. प्रधानमंत्री ने कहा, “क्या आप जानते हैं कि हमने जो 16 पदक जीते हैं, उनमें से छह पदकों में तमिलनाडु के एक युवा खिलाड़ी की भूमिका थी और यह टीम के लिए सबसे अच्छे योगदान में शामिल है.’’
उन्होंने अपने वाराणसी निर्वाचन क्षेत्र में काशी हिंदू विश्वविद्यालय में सुब्रमण्य भारती पीठ और केंद्र द्वारा केंद्रीय तमिल शास्त्रीय संस्थान का पूर्ण वित्त पोषण किए जाने का उल्लेख किया. राष्ट्रीय शिक्षा नीति को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि तकनीकी और चिकित्सा पाठ्यक्रम स्थानीय भाषाओं में चलाए जा सकते हैं और तमिलनाडु के युवा इससे लाभान्वित हो सकते हैं.
उन्होंने कहा कि भारत आर्थिक रूप से संकटग्रस्त श्रीलंका को वित्तीय मदद के साथ-साथ ईंधन, भोजन, दवा और अन्य आवश्यक वस्तुओं सहित हरसंभव सहायता प्रदान कर रहा है. पीएम मोदी ने उल्लेख किया कि वह जाफना की यात्रा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं. योजनाओं और परियोजनाओं की शुरुआत तथा आधारशिला रखने सहित नई योजनाओं की ओर इशारा करते हुए उन्होंने सामाजिक एवं भौतिक दोनों तरह के बुनियादी ढांचे के विकास के महत्व को रेखांकित किया और कहा कि बेंगलुरु-चेन्नई एक्सप्रेसवे आर्थिक विकास के दो प्रमुख केंद्रों को जोड़ेगा.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पिछले तीन दशक के दौरान लगातार राजनीतिक अस्थिरता के कारण देश राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी से जूझता रहा और सुधारों एवं महत्वपूर्ण फैसलों को लागू करने से दूर रहा, लेकिन देश अब राजनीतिक दृढ़ इच्छाशक्ति देख रहा है और 2014 से लगातार सुधार पर भी अमल किया जा रहा है.
पीएम मोदी ने कहा कि भारत आज विकास के एक प्रमुख केंद्र के रूप में उभर रहा है और दुनिया यह महसूस कर रही है कि भारत का मतलब व्यापार है. अक्सर भारतीय समाधान विश्व स्तर पर लागू किए जाने की ओर इशारा करते हुए उन्होंने आईएसबी के छात्रों से अपने व्यक्तिगत लक्ष्यों को देश के साथ जोड़ने का आह्वान किया.
उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान स्वास्थ्य क्षेत्र में देश का दबदबा बढ़ा है और भारत ने अपने स्वयं के टीके विकसित किए. उन्होंने सुधार प्रक्रिया में नौकरशाही के योगदान को भी उल्लेखित किया. उन्होंने सरकारी योजनाओं के सफल क्रियान्वयन में लोगों की भागीदारी के योगदान को भी रेखांकित किया. उन्होंने कहा कि जब लोग सहयोग करते हैं तो त्वरित और बेहतर परिणाम निश्चित हैं.
पीएम मोदी ने कहा कि मौजूदा तंत्र में सरकार सुधार करती है, नौकरशाह उस पर अमल करते हैं और जनता इसमें भागीदार बनती है, जिसके कारण परिवर्तन आता है. उन्होंने आईएसबी के विद्यार्थियों से कहा कि वे सुधार, प्रदर्शन और बदलाव के तंत्र का अध्ययन करें. पीएम मोदी ने छोटे कारोबारियों को फलने-फूलने देने और उन्हें नये स्थानीय और वैश्विक बाजारों से जोड़ने के लिए उन्हें अधिक अवसर प्रदान करने की आवश्यकता जताई.
तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हैदराबाद पहुंचने से कुछ घंटे पहले, बृहस्पतिवार को सुबह बेंगलुरु के लिए रवाना हो गए. यह चार महीनों में दूसरी बार है जब राव ने मोदी की हैदराबाद की यात्रा के दौरान उनसे मिलने से परहेज़ किया है. इससे पहले फरवरी में, प्रधानमंत्री ‘समानता की प्रतिमा’ का अनावरण करने के लिए यहां आए थे जो संत रामानुजाचार्य की विशाल प्रतिमा है. सरकारी सूत्रों ने तब बताया था कि राव प्रधानमंत्री की अगवानी इसलिए नहीं कर सके थे, क्योंकि वह ‘बीमार’ थे.

ये भी पढ़ें- PM Modi Chennai Visit: पीएम मोदी ने तमिलनाडु को दिए ये बड़े तोहफे, जानिए इनके बारे में सबकुछ



Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles