Patna Bihar : निखिल की मौत को पुलिस जेठुली गोली कांड से अलग बता रही, लेकिन पारिवारिक कुंडली में देखें सच


मरने वालों पांचों एक ही वंश के थे
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार

23 अप्रैल को जेठुली में घर के पास गोली मारे के बाद 25 अप्रैल को खुद बयान देकर उसपर अंगूठा लगाने वाले निखिल कुमार की 06 मई की रात नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (NMCH) में मौत हो गई। इससे पहले 19 फरवरी को जेठुली में अंधाधुंध फायरिंग में दो की मौके पर मौत हो गई थी, जबकि दो युवकों ने बारी-बारी से इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। इस बारे में पटना पुलिस के ढुलमुल रवैए पर ‘अमर उजाला’ ने एसपी (ग्रामीण) मसूद आलम से बात की तो उन्होंने दोनों केस को अलग-अलग बताते हुए सख्त लहजे में कहा कि इसे जोड़ नहीं सकते। लेकिन, पीड़ित और आरोपित परिवारों की कुंडली बताती है कि केस को अलग किया ही नहीं जा सकता। पढ़िए, कैसे-

मरने वालों का पारिवारिक हिसाब-किताब देखें

19 फरवरी को हुई अंधाधुंध फायरिंग में ललन राय के अपने भाइयों चेनारिक राय और मोनारिक राय को गोली लगी। इसके अलावा, इस फायरिंग में इसी पक्ष से इनके गोतिया प्रमोद राय के बेटे गौतम कुमार और नागेंद्र राय के बेटे रौशन कुमार को गोली लगी थी। इन चारों की मौत हो चुकी है। रौशन के पिता नागेंद्र राय गोलीबारी में घायल हुए थे, लेकिन अब वह स्वस्थ हैं और घर पर हैं।  दो महीने बाद 23 अप्रैल को ललन राय के चचेरे भाई नगीना राय के इकलौते बेटे नाबालिग निखिल कुमार को गोली मारी गई। इसी की 06 मई की रात मौत हुई है। यह पढ़ा-लिखा नहीं था, इसलिए घर-परिवार में पशुओं की देखभाल करता था।

अब गोली कांड के आरोपितों का परिवार जानें

19 फरवरी के जेठुली गोली कांड में आरोपित उमेश राय, उसके भाइयों सतीश कुमार उर्फ बच्चा यादव, राम प्रवेश निराला, रमेश राय, सत्येंद्र कुमार और डॉ. राजेश कुमार में से सिर्फ एक ने सरेंडर किया- सतीश कुमार उर्फ बच्चा यादव। सतीश के साथ उसके बेटे अमन कुमार, भतीजे राहुल कुमार (पिता- रामप्रवेश निराला), सुनील राय (उमेश राय की पत्नी का भाई) समेत कुल आठ ने आत्मसमर्पण किया था। इन सरेंडर के बाद पुलिस शांत बैठी थी। अब जब निखिल कुमार की मौत हुई तो पुलिस इन शेष पांचों भाइयों के खिलाफ कुर्की के लिए इश्तेहार चिपकाने जा रही है। अब, 23 अप्रैल को निखिल को गोली मारे जाने के आरोपियों का नाम पढ़ें- सत्येन्द्र कुमार, वर्तमान मुखिया अंजू देवी, परमा राय उर्फ़ परमानन्द राय, टेका राय, राजेश्वर राय, सुभाष राय और अनुरुद्ध कुमार सिंह। इसमें सत्येंद्र कुमार तो उमेश राय का भाई ही है। मुखिया अंजू देवी उमेश राय के भाई सतीश कुमार उर्फ बच्चा यादव की पत्नी है। सुभाष राय तो उमेश राय की पत्नी का भाई है।  उमेश राय की पत्नी का एक भाई सुनील राय सरेंडर कर चुका है। शेष परमा राय, टेका राय, राजेश्वर राय और अनुरुद्ध राय भी उमेश राय और बच्चा यादव के दाएं-बाएं हैं।



Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles