Manipur Violence All Party Meeting Amit Shah Says Efforts Being Made For Peace In Manipur Ann | Manipur Violence: ‘मणिपुर की स्थिति पर पहले दिन से है PM मोदी की नजर’, ऑल पार्टी मीटिंग पर अमित शाह बोले


Manipur Violence All Party Meeting: मणिपुर में जारी हिंसा को लेकर शनिवार (24 जून) को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक हुई. इस दौरान अमित शाह ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर मणिपुर में शांति बहाल करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं. सभी राजनीतिक दलों ने संवेदनशीलता के साथ और अराजनीतिक तरीके से मणिपुर में शांति बहाली के लिए अपने सुझाव दिए और भारत सरकार खुले मन से इन सुझावों पर विचार करेगी.”
अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार सबको साथ लेकर मणिपुर समस्या का समाधान निकालने के प्रति कटिबद्ध है. मोदी सरकार की प्राथमिकता है कि राज्य में अब एक भी व्यक्ति की जान हिंसा में ना जाए. मणिपुर में स्थिति धीरे-धीरे सामान्य हो रही है, 13 जून की देर रात के बाद से राज्य में एक भी व्यक्ति की जान हिंसा में नहीं गई, अब तक 1800 लूटे गए हथियार जमा कराए जा चुके हैं. 
सुरक्षाबलों की तैनाती पर दिया अपडेट
शाह ने कहा, “राज्य में सुरक्षाबलों के 36 हजार जवान तैनात हैं, 40 IPS अधिकारियों को मणिपुर भेजा गया है, 20 मेडिकल टीमें भेजी गई हैं, दवाओं सहित सभी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित की जा रही है. वहीं, म्यांमार-मणिपुर सीमा पर 10 किलोमीटर बाड़ लगाने का काम पूरा हो चुका है, 80 किलोमीटर सीमा पर बाड़ लगाने के लिए टेंडर हो चुका है और बाकी बची सीमा का सर्वेक्षण चल रहा है.”
सभी राजनीतिक दलों का किया धन्यवाद 
इसके साथ ही केंद्रीय गृह मंत्री ने सभी राजनीतिक दलों से स्थिति को सामान्य करने और मणिपुर में विभिन्न समुदायों के बीच जल्द से जल्द शांति और विश्वास बहाल करने में मदद के लिए सहयोग करने का आग्रह किया. उन्होंने अन्य राजनीतिक दलों को मणिपुर समस्या के समाधान के लिए उपयोगी सुझाव देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी और भारत सरकार की तरफ से उनका धन्यवाद किया. 
क्या बोले जेपी नड्डा? 
वहीं, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि भारत सरकार और गृह मंत्री अमित शाह की तरफ से मणिपुर समस्या के त्वरित समाधान के लिए हरसंभव कदम उठाए जा रहे हैं. पीएम मोदी भी इस पूरी घटना पर पहले दिन से ही नजर बनाए हुए हैं. मणिपुर समस्या बेहद संवेदनशील है और इसे संवेदनशीलता के साथ ही सुलझाने की जरूरत है. उन्होंने कहा, “मणिपुर समस्या की जड़ में कई पुराने कारण हैं जो वर्तमान हिंसा के भड़कने का कारण भी बने.”
ये भी पढ़ें: 
Opposition Meeting: ‘पीएम मोदी को मिलेगा विपक्षी एकता का फायदा’, रामदास अठावले बोले- हर पार्टी का एजेंडा अलग, वो नहीं हो सकते एक



Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles