Jammu Kashmir BJP Leaders Workers Under Threat Police Not Providing Security Manzoor Bhat BJP Spokesperson Ann


Jammu Kashmir BJP Leaders: कश्मीर घाटी में बीजेपी के मुखर प्रवक्ता मंजूर भट आज भी खतरे के बीच बीजेपी कार्यालय में काम कर रहे हैं! ऐसा इसलिए कहा जा सकता है क्योंकि करीब महीना भर पहले मंज़ूर को एक विदेशी नंबर से फोन पर कॉल आया था और कॉल करने वाले ने पाकिस्तान से होने की बात कही थी और मंज़ूर को बीजेपी के लिए लोगों को जोड़ने का आरोप लगाया और जान से मारने की धमकी भी दी. लेकिन चिंता की बात यह है कि धमकी देने वाले ने मंज़ूर से कहा कि उनके “शूटर” बीजेपी कार्यालय में उन से मिले हैं, हाथ मिलाया है और जब चाहे वह उस पर हमला कर सकते हैं! 
मंज़ूर भट अकेले ऐसे बीजेपी के नेता नहीं हैं जिन को पाकिस्तान में बैठे आतंकियों की तरफ से जान से मारने की धमकी मिली है. मंज़ूर के अनुसार उनकी पार्टी के एक और युवा नेता बिलाल परे को भी उसी नंबर से कॉल आया था और जान से मारने की भी धमकी दी गई थी. इसके बाद बीजेपी के इन नेताओं ने पुलिस में मामला दर्ज करवाया और अपनी जान को खतरे की बात कही है. 
कोर्ट से पुलिस को फटकार
लेकिन एक महीना गुजरने के बाद भी ना तो उनकी सुरक्षा बढ़ाई गई है और ना ही FIR दर्ज हुई है. मंज़ूर भट के अनुसार जम्मू-कश्मीर पुलिस की सुरक्षा विंग ने उनकी मांग को नकार दिया और पुलिस ने भी FIR दर्ज करने से इंकार किया. इसके बाद उन्हें कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाना पड़ा है. कोर्ट से फटकार मिलने पर धमकी वाले मामले में FIR दर्ज हुई लेकिन उनको सुरक्षा अभी भी नहीं मिली है. 
आतंकी गुट ने 30 लोगों की हिट लिस्ट जारी की
इसी बीच अभी लश्कर से जुड़े आतंकी संगठन ‘द रेजिस्टेंस फ्रंट’ (टीआरएफ) ने आरएसएस और बीजेपी से जुड़े 30 लोगों की हिट लिस्ट जारी कर सबको जान से मारने की धमकी दी है. इस लिस्ट में नेताओं के नाम, पद और जगह बताई गई है और इन नेताओं को निशाना बनाये जाने की बात कही गई है. आरएसएस के लोग हर्ष का अनुभव कर रहे हैं… 
टीआरएफ ने कश्मीर फाइट डॉट कॉम नामी ब्लॉग पर एक बयान जारी किया है जो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. बयान में कहा गया है कि “आरएसएस के लोग अपना प्रचार-प्रसार करते हुए बड़े हर्ष का अनुभव कर रहे हैं. घाटी में आरएसएस के इस जहरीले पंथ में शामिल होने वाले लोगों को या तो पता नहीं है कि वे किस में शामिल हो रहे हैं या वे पहले ही इस पंथ से प्राप्त होने वाले छोटे लाभों के लिए खुद को बेच चुके हैं.”
बयान में आगे कहा गया है कि “लोगों को ऐसे तत्वों के बारे में पता होना चाहिए जो घाटी में इस संगठन में शामिल हो गए हैं. एक तरफ संघी बीजेपी के लोग हिंदुत्व विचारधारा को लागू/प्रसारित करने की कोशिश कर रहे हैं और दूसरी तरफ यह संगठन आरएसएस इस्लाम और अन्य धर्मों को बदनाम करने का एजेंडा चला रहा है. घाटी में कुछ परजीवी इस संगठन में शामिल हो गए हैं.”
बहुत खून बहने वाला है!
टीआरएफ ने अपनी धमकी में साफ कहा है कि आने वाले समय में विशेष रूप से इन परजीवियों और अन्य सहयोगियों का बहुत खून बहने वाला है. आम लोगों को अपने आस-पास घूमने वाले ऐसे परजीवियों से सावधान रहना चाहिए. हालांकि पुलिस की ओर से इसको लेकर कोई बयान नहीं दिया गया है.
जान से हाथ धोना पड़ सकता है
लेकिन बीजेपी के नेताओं का आरोप है कि इस बढ़ते खतरे के बावजूद भी जम्मू कश्मीर पुलिस उनको पर्याप्त सुरक्षा देने में नाकाम साबित हुई है. बीजेपी प्रवक्ता मंज़ूर भट के अनुसार उनको इस बात का पूरा अंदेशा है कि पार्टी से जुड़े दर्जनों कार्यकर्ताओं की तरह उसको भी अपनी जान से हाथ धोना पड़ सकता है. 
प्रधानमंत्री और गृहमंत्री देख लें
उन्होंने कहा, “लेकिन मैं देश के प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से यह कहना चाहता हूं कि वह देख लें कि देश की खातिर उनके कार्यकर्ता कैसे हालात में भी काम करने पर मजबूर हैं. इसी लिए अभी उनको खुद इन सब हालात का संज्ञान लेते हुए पुलिस प्रशासन को निर्देश जारी करने चाहिए”
गजनवी हिंद जैसा संगठन
जम्मू-कश्मीर में एक्टिव द रेजिस्टेंस फ्रंट लश्कर-ए-तैयबा की ही एक शाखा है. यह फ्रंट जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के खिलाफ ऑनलाइन कैंपेन भी चलाता है. कुछ रिपोर्ट्स में पुलिस के हवाले से बताया गया कि कराची से इस ऑनलाइन कैंपेन के 6 महीने बाद ही इस फ्रंट ने जमीनी स्तर पर अपना संगठन तैयार किया. यह तहरीक-ए-मिल्लत इस्लामिया और गजनवी हिंद जैसे दूसरे संगठनों जैसा है.
इस संगठन ने जम्मू-कश्मीर में हमलों की जिम्मेदारी 2020 के बाद लेना शुरू किया. फ्रंट का पता तब चला, जब इससे जुड़े लोगों को सोपोर से अरेस्ट किया गया.
ये भी पढ़ें: Hanuman Jayanti: दिल्ली के उत्तम नगर में लहराईं तलवारें, हनुमान जयंती से पहले VHP ने निकाली शोभा यात्रा



Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles