Farmer Protest Samyukt Kisan Morcha black day burnt amit shah Manohar Lal Khattar effigies Candle march final announcement on 29th February



Samyukt Kisan Morcha Protest: संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने शुक्रवार (23 फरवरी) को काला दिवस मनाया. साथ ही राज्य की सीमा पर दो जगह डेरा डाले प्रदर्शनकारी किसानों के खिलाफ हरियाणा पुलिस की कार्रवाई के विरोध में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं के पुतले फूंके. हरियाणा पुलिस और पंजाब के किसानों के बीच हिंसा में मारे गये किसान शुभकरण सिंह के प्रति शोक व्यक्त करने के लिए एसकेएम ने काला दिवस मनाने का आह्वान किया था.
बीजेपी नेताओं के पुतले फूंके
भारतीय किसान यूनियन (एकता उगराहां) ने शुक्रवार को कहा कि उसने शुभकरण सिंह की मौत के विरोध में पंजाब के 17 जिलों में 47 स्थानों पर प्रदर्शन किया. भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू-एकता उगराहां), एसकेएम का हिस्सा है. बीकेयू (एकता उगराहां) के महासचिव सुखदेव सिंह कोकरीकलां ने कहा कि उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज के पुतले फूंके.
अमृतसर में किसानों ने मुख्य प्रवेश बिंदु न्यू गोल्डन गेट पर बीजेपी नीत केंद्र सरकार का पुतला फूंका. एसकेएम नेता रतन सिंह रंधावा ने कहा कि सीमा पर स्थित डोएकी, महिमा, पंडोरी, मोधे और रातोकी सहित विभिन्न गांवों में विरोध प्रदर्शन किया गया. एसकेएम और व्यापार संघों के सदस्यों ने संयुक्त रूप से लुधियाना में लघु सचिवालय के बाहर प्रदर्शन किया.
खनौरी बॉर्डर पर किसान नेताओं ने कहा, “आज हमलोग के लिए गमगीन माहौल है. हमारे एक व्यक्ति की जान गई है. हमने फैसला लिया है कि 24 फरवरी को कैंडल मार्च निकालेंगे. 26 फरवरी को पुतले जलाएंगे और 29 फरवरी को ऐलान करेंगे आगे क्या करना है.”
मंत्रियों के इस्तीफे की मांग की
प्रदर्शनकारियों ने मंत्रियों के इस्तीफे और शुभकरण सिंह की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करने की मांग की. ठीक इसी तरह का प्रदर्शन होशियारपुर जिले में भी हुआ, जहां किसानों ने केंद्र और हरियाणा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. उन्होंने सरकार से फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानून बनाने सहित प्रदर्शनकारी किसानों की मांगें मानने की मांग की.
संयुक्त किसान मोर्चा (गैर राजनैतिक) और किसान मजदूर मोर्चा के आगामी कार्यक्रम 

24 फरवरी को देशभर में शाम को शहीद शुभकरण सिंह और अन्य 3 शहीद किसानों की स्मृति में कैंडल मार्च आयोजित किए जाएंगे.
25 फरवरी को शम्भू और खनौरी बॉर्डर पर WTO के विषय में सम्मेलन कर के देशभर के किसानों को जागरूक किया जाएगा.
26 फरवरी को देश में सभी गांवों में WTO के पुतले सुबह फूंके जाएंगे और दोपहर 3 बजे WTO के बड़े पुतले शम्भू और खनौरी बॉर्डर पर फूंके जाएंगे.
27 फरवरी को दोनों फोरम की राष्ट्रीय स्तर की बैठक शम्भू और खनौरी बोर्डरों पर आयोजित होंगी. 28 फरवरी को दोनों फोरम की साझा बैठक आयोजित करके 29 फरवरी को किसान आंदोलन के आगामी बड़े फैसले का ऐलान किया जाएगा.

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी जब तक बंगाल दौरे पर नहीं आते तब तक संदेशखाली मुद्दे को जिंदा रखने का मिला है ऑर्डर… TMC का आरोप



Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles