Bihar Hooch Tradegy : शराब से मरने वालों के परिवार को भी मिलेंगे 4 लाख, CM नीतीश ने नए आधार पर की घोषणा


CM नीतीश कुमार।
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार

बिहार में अब जहरीली शराब पीकर मरने वालों के परिजन भी मुख्यमंत्री राहत कोष से चार लाख रुपये नीतीश कुमार सरकार देगी। मोतिहारी में लगभग तीन दर्जन मौतों की ताजा खबर के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को यह घोषणा की। उन्होंने बताया कि सारण, सीवान, गोपालगंज समेत जहां भी जहरीली शराब से मौत हुई है, सभी के परिजनों को एक शपथपत्र देने के बाद आवेदन पर यह राशि दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट कहा कि 2016 के बाद से जहां भी जहरीली शराब से मौत हुई है, उन सब के परिवार को चार लाख रुपये की मदद दी जाएगी। 

क्या लिखकर देना होगा, जानिए

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि वह शराबबंदी के बावजूद इन खबरों से परेशान हैं। परेशानी की वजह वह परिवार भी हैं, जिनके लोगों ने जहरीली शराब कांड में जान गंवाई। शराबबंदी लागू किए जाने के बाद से अबतक जो लोग भी जहरीली शराब के कारण मरे हैं, उनके परिजनों को सिर्फ एक पेपर पर यह घोषणा करनी होगी कि वह शराब के खिलाफ और शराबबंदी के पक्ष में हैं, इसे बुरा मानते हैं और परिवार के फलां सदस्य के शराब पीकर मरने के बाद परिवार आर्थिक संकट से गुजर रहा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को यह घोषणा की। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि वह शराबबंदी के खिलाफ हैं और रहेंगे। उन्होंने कहा कि वह शराब रोकने के लिए हर तरीके का प्रयास कर रहे हैं लेकिन फिर भी लोग पी रहे हैं और जहरीली शराब से लोग मर भी रहे हैं। इसलिए, जहरीली शराब पीकर मरने वालों के परिवारों के लिए सरकार ने यह फैसला लिया है।

जहरीली शराब से मौत पर बोले CM नीतीश – ‘जो पिएगा, वह मरेगा’

मुख्यमंत्री राहत कोष से 4 लाख की मदद

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि महिलाओं की मांग पर हमने 2016 बिहार में शराबबंदी की घोषणा की थी। इसके बाद लगातार शराब के खिलाफ अभियान भी चलाया गया। इसके बाद कई लोग शराब छोड़ते गए। इधर, कुछ दिन पहले और 2021 में, 2022 में और फिर 2 दिन पहले मोतिहारी घटना हुई कि जहरीली शराब से कई लोगों की मौत हुई। यह बहुत दुखद है। मैं लगातार कहता था कि शराब नहीं पीना चाहिए। अच्छी चीज नहीं है। इधर, दो दिन पहले जो मैं देखा तो मुझे बहुत दुख हुआ। इसके बाद अधिकारियों के साथ बैठक की। विचार-विमर्श किया। इसके बाद फैसला किया कि मुख्यमंत्री राहत कोष से पीड़ित परिवार को 4 लाख का मुआवजा दिया जाए। इसके लिए पीड़ित परिवार को कागज पर लिखकर देना होगा कि परिवार के सदस्य की मौत जहरीली शराब हो गई। हमलोग शराबबंदी के पक्ष में हैं। हमलोगों सभी को शराब छोड़ने के लिए प्रेरित करेंगे, ऐसा लिखकर देने के बाद बिहार सरकार उसे मदद करेगी। 



Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles