Amarnath Yatra 2022 Amarnath Shrine Board Will Not Allow Pilgrims Without Getting RFID Tag Ann


Amarnath Yatra Security: अमरनाथ यात्रा को सुरक्षित करने और अनधिकृत लोगों को यात्रा मार्गों में प्रवेश करने से रोकने के लिए अमरनाथ श्राइन बोर्ड (Amarnath Shrine Board) ने इस साल यात्रा पर सख्त नियंत्रण की घोषणा की है. इस साल की यात्रा पर आतंकवादी हमलों (Terrorist Attacks) के गंभीर खतरों के बीच निर्णय लिया गया है, जो दो साल के अंतराल के बाद कोविड लॉकडाउन (Covid Lockdown) के कारण आयोजित की जा रही है. 
मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड नीतीशवार कुमार ने कहा है कि किसी भी तीर्थयात्री और यात्रा में शामिल अन्य व्यक्तियों को बिना रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) टैग के अमरनाथ यात्रा के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी.
तीर्थयात्रियों को पंजीकरण के आधार पर आरएफआईडी टैग
यात्रा का संचालन करने वाले अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने कहा है कि आरएफआईडी टैग के प्रावधान से संबंधित सुविधाएं हवाई अड्डे और रेलवे स्टेशन के अलावा सोनमर्ग के बालतल और पहलगाम में नूनवन में आधार शिविरों में रखी जाएंगी. इसके अलावा, तीर्थयात्रियों को पंजीकरण के आधार पर आरएफआईडी टैग प्रदान किए जाएंगे जो यात्रा करने के लिए अनिवार्य होंगे. “तीर्थयात्री घाटी में प्रवेश करते समय चाहे वे जम्मू में उतरें या यात्रा के लिए सड़क चुनें, उन्हें संबंधित स्थानों पर आरएफआईडी टैग प्रदान किए जाएंगे,” सीईओ नीतेश्वर कुमार ने कहा.
मिलेगी ये मदद
अधिकारियों के अनुसार, आरएफआईडी टैग तीर्थयात्रियों को ट्रैक करने और यह बताने में मदद करेंगे कि वह व्यक्ति कहां है. आरएफआईडी के बहुत सारे लाभ हैं और उनमें से सबसे महत्वपूर्ण यह है कि यह पता लगाएगा कि क्या कोई अनधिकृत व्यक्ति है, जो सुरक्षा एजेंसियों को उनकी पहचान करने में मदद करेगा, ”सीईओ श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने कहा, पोनीवाला सहित लंगर सेवा और अन्य देखभाल करने वालों के लिए भी यात्रा के लिए RFID टैग अनिवार्य कर दिया गया है! 
विभिन्न माध्यमों से यात्रा में शामिल होने वाले स्थानीय लोगों को सुरक्षा उपायों के तहत आरएफआईडी टैग (RFID Tag) भी लेने होंगे इसके अलावा आगामी यात्रा के लिए अन्य व्यवस्था भी पहले से ही मौजूद है जो पंजीकरण के आधार पर दिए जाएंगे! नीतीशवर कुमार ने उन सभी लोगों से भी अपील की जो आगामी अमरनाथ यात्रा का हिस्सा बनने जा रहे हैं कि वे आरएफआईडी टैग (RFID Tag) हासिल करने के इस नए नियम का पालन करें, जो उनकी सुरक्षा के लिए है और उन्हें सुरक्षित और सुरक्षित महसूस करने में मदद करेगा.
कोविड-19 संक्रमण (Covid-19 Infection) के कारण दो साल तक बाधित रहने के बाद 43 दिनों तक चलने वाली अमरनाथ यात्रा (Amarnath Yatra) 30 जून से शुरू होने जा रही है. सरकार के अनुसार, प्राकृतिक रूप से बर्फ से बने शिवलिंग (Shivaling) के दर्शन करने के लिए अमरनाथ तीर्थ की वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए तीर्थयात्रियों की संख्या लाखों में बढ़ सकती है.
इसे भी पढ़ेंः-
Monkeypox: मंकीपॉक्स की पहचान के लिए भारतीय कंपनी ने बनाई RT-PCR किट, 1 घंटे में संक्रमण का चलेगा पता
Hanuman Chalisa Row: महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा पर फिर हो सकता है बवाल, नागपुर में राणा दंपत्ति और NCP करेंगे पाठ



Source link

Related Articles

Stay Connected

1,271FansLike
1FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles